हनुमान प्रसाद पोद्दार

Description
h p poddar

Please download to get full document.

View again

of 6
All materials on our website are shared by users. If you have any questions about copyright issues, please report us to resolve them. We are always happy to assist you.
Information
Category:

Documents

Publish on:

Views: 5 | Pages: 6

Extension: DOCX | Download: 0

Share
Transcript
   हनुमान     साद     पोार   (1892  ई    -   २२    मारच    १९७१ )   का     नाम     गीता     ेस     थापत     कने    के    पये   भात     व     पव     म    पस     है।    गीता     ेस     उ     देश     के    गोखु     नग     म    थत     है।    उनको     ा     से   भाई     जी     कहक    भी     बुाते    ह।    परचय    अनुम       1  रय       2  जीवन       3  तंता     संाम       4  पगायां      5  गीताेस       6 अका       7  समान       8  इ   भी     देख      9  बाही     कप़या   आज     गीता     ेस     गोखु     का     नाम     पकसी    भी    भातीय     के    पए    अनजाना     नहीं    है।    सनातन     पहंदू     संृ पत     म   आथा     खने    वाा     दुपनया     म    शायद     ही     कोई     ऐसा     वा     होगा     जो     गीता     ेस     गोखु     के    नाम     से    परत     नहीं    होगा।    इस     देश     म   औ     दुपनया     के    ह     कोने    म    ामायण  ,  गीता  ,  वेद  ,  ुाण    औ     उपनषद     से    ेक     ारीन    भात     के    ऋपषयों  -  मुपनयों    की     कथाओं    को     राने    का     एक     मा    ेय     गीता     ेस     गोखु     के    संथाक    भाईजी     हनुमान     साद     ोा     को     है।    रा  -  सा     से    दू     हक     एक    अपकं रन     सेवक    औ     पनाम     कमचयोगी     की     तह    भाईजी     ने    पहंदू     संृ पत     की     माताओं    को     घ  -  घ     तक     राने    म    जो     योगदान     पदया     है ,  इपतहास     म    उसकी     पमसा     पमना     ही     मु     है।    जीवन    भातीय     ंरांग     के   अनुसा     पवम     संवत     के    वषच    १९४९  (  सन्   1892  ई  )  म   अपन     कृ      की     दोष     के    पदन     उनका     ज     आ।    इस     वषच     यह     पतपथ     शपनवा  , 6 अूब     को     है।    ाजथान     के    तनग     म    ाा    भीमाज    अवा    औ     उनकी     ी     खीबाई     हनुमान     के   भ    थे ,  तो     उों ने   अने    ु     का     नाम     हनुमान     साद     ख     पदया।    दो     वषच     की    आयु    म    ही     इनकी     माता     का     गचवास     हो     जाने         इनका     ान  -  ोषण     दादी     मा    ने    पकया।    दादी     मा    के   धापमचक     संाों    के    बीर     बाक     हनुमान     को     बरन     से    ही     गीता  ,  ामायण     वेद  ,  उपनषद    औ     ुाणों    की     कहापनया    न  -  सुनने    को     पमी।    इन     संाों    का     बाक          गहा    अस     ़ा।    बरन     म    ही     इ    हनुमान     कवर     का     ाठ     पसखाया     गया।    पनंबाकच     संदाय     के    संत     जदास     जी     ने    बाक     को     दीा     दी।     तंता     संाम     उस     समय     देश     गुामी     की     जंजीों    म    जक़ा     आ    था।    इनके    पता    अने    काोबा     का     वजह     से    कका     म   थे   औ     ये   अने    दादाजी     के    साथ    असम     म।    कका     म    ये    तंता    आंदोन     के    ांपतकायो  ं   अपवंद     घोष  ,   देशबंधु    परतंजन     दास  ,   ं    झाबम     शमाच     के    संकच     म   आए    औ    आादी    आंदोन     म    कूद     ़े।    इसके    बाद     ोकमा     पतक    औ     गोाकृ      गोखे    जब     कका    आए     तो    भाई     जी     उनके    संकच     म   आए     इसके    बाद     उनकी     मुाकात     गाधीजी     से    ई।    वी     सावकक     ाा     पखे    गए    ' १८५७    का     ातं     सम     ंथ  '  से   भाई     जी     बत     भापवत     ए    औ    १९३८    म    वे    वी     सावक     से    पमने    के    पए     मु ंबई     रे   आए।   १९०६    म    उों ने    क़ों    म    गाय     की     रब     के    योग     पकए     जाने    के    खाफ    आंदोन     राया    औ     पवदेशी     वुओं   औ     पवदेशी     क़ों    के    बपहा     के    पए     संघषच     छे़     पदया।    युवावथा     म    ही     उों ने    खादी    औ     देशी     वुओं    का     योग     कना     शु     क     पदया।    पवम     संवत    १९७१    म    जब     महामना     ं .    मदन     मोहन     मावीय     बनास     पहंदू     पवपवाय     की     थाना     के    पए    धन     संह     कने    के    उे     से    कका    आए     तो    भाईजी     ने    कई     ोगों    से    पमक     इस     कायच     के    पए     दान  -  ापश     पदवाई।    गरफारयां    कका     म   आजादी    आंदोन    औ     ांपतकायों    के    साथ     काम     कने    के    एक     मामे    म    ताीन     पपिश     सका     ने    हनुमान     साद     ोा     सपहत     कई     मुख     ाायों    को     ाजोह     के   आो     म    पगा     क     जे    भेज     पदया।    इन     ोगों    ने    पपिश     सका     के    हपथयाों    के    एक     जखीे    को     ूिक     उसे    पछाने    म    मदद     की    थी।    जे     म   भाईजी     ने    हनुमान     जी     की    आाधना     कना     शु     कदी।    बाद     म    उ   अीु     जे     म    नबंद     क     पदया     गया।    नबंदी     के    दौान    भाईजी     ने    समय     का    भू     सदुयोग     पकया     वहा    वे   अनी     पदनरयाच     सुबह     तीन     बजे    शु     कते   थे   औ     ूा     समय     माा     का    ान     कने    म    ही     पबताते   थे।    बाद     म    उ    नजबंद     खते    ए     ंजाब     की     पशमा     जे     म   भेज     पदया     गया।    वहा    कै दी     मीजों    के    ा     की     जार     के    पए     एक     होोैपथक     परपकक     जे     म   आते   थे , भाई     जी     ने    इस     परपकक     से    होोैथी     की     बाीपकया    सीख     ी    औ     होोैथी     की     पकताबों    का    अयन     कने    के    बाद     खुद     ही     मीजों    का     इाज     कने    गे।    बाद     म    वे    जमनाा     बजाज     की     ेणा     से    मु ंबई     रे   आए।    यहा    वे    वी     सावक  ,  नेताजी     सुभाष     रं     बोस  ,  महादेव     देसाई    औ     कृ दास     जाजू     जैसी     पवभूपतयों    के    पनकि     संकच     म   आए।    मु ंबई     म    उों ने   अवा     नवयुवकों    को     संगपठत     क     मारवाी     खादी     चार     मंडल     की     थाना     की।    इसके    बाद     वे    पसद     संगीतारायच     पवु    पदगंब     के    संग     म   आए    औ     उनके    दय     म    संगीत     का     झना     बह     पनका।    पफ     उों ने   भ     गीत     पखे    जो    `    -  ु  '  के    नाम     से    कापशत     ए।    मु ंबई     म    वे   अने    मौसेे   भाई     जयदया     गोया     जी     के    गीता     ाठ     से    बत     भापवत    थे।    उनके    गीता     के    पत     ेम    औ     ोगों    की     गीता     को     ेक     पजासा     को     देखते    ए    भाई     जी     ने    इस     बात     का     ण     पकया     पक     वे   ीमद्   भागवीता     को     कम     से    कम     मू          ोगों    को     उ     काएंगे।    पफ     उों ने    गीता          एक     िीका     पखी    औ     उसे    कका     के    वापणक     ेस     म    छवाई।    हे    ही     संण     की     ार     हजा     पतया    पबक     गई।    ेपकन    भाईजी     को     इस     बात     का      दु :  ख    था     पक     इस     ुक     म    ढेों    गपतया   थी।    इसके    बाद     उों ने    इसका     संशोपधत     संण     पनकाा     मग     इसम   भी     गपतया    दोहा     गई    थी।    इस     बात     से   भाई     जी     के    मन     को     गही     ठेस     गी    औ     उों ने    तय     पकया     पक     जब     तक    अना     खुद     का     ेस     नहीं    होगा  ,  यह     कायच    आगे    नहीं    बेगा।    बस     यही     एक     छोिा     सा     संक     गीता     ेस     गोखु     की     थाना     का    आधा     बना।    उनके   भाई     गोया     जी     ाा     तब     बांकु ़ा   (  बंगा  )  म   था    औ     वे    गीता          वरन     के    पसपसे    म    ाय  :  बाह     ही     हा     कते   थे।    तब     समा     यह    थी     पक     ेस     कहा    गाई     जाए।    उनके    पम     घनाम     दास     जाान     गोखु     म    ही     ाा     कते   थे।    उोने    ेस     गोखु     म    ही     गाए     जाने   औ     इस     कायच     म   भू     सहयोग     देने    का    आासन     पदया।    इसके    बाद    २९   अै    १९२३    ई०    को     गीता     ेस     की     थाना     ई।  ==  काण     का    आ     संवत    १९८३    पवमी   ( १९२६    ई०  )  म    मावा़ी    अवा     महासभा     का     वापषचक    अपधवेशन     पदी     म    आ।    इसके    सभापत    थे    सेठ     जमनाा     बजाज    औ     ागता    थे   ी    आााम     खेमका    | आ     म    खेमकाजी     ने    कु छ     काणों    से    ागता     होना    अीका     क     पदया    था    ,  बाद     म    सेठ     जयदया     गोयका     के   आह     से    वे    तैया     हो     गए।   अपधवेशन     जली     ा     होनेवाा    था          उा     ागत    भाषण     पखने    का    |  खेमका     जी     शा     तथा     पवान    थे   ,       उ    पही     पखने    का    अास     नहीं   था।    उों ने   ी     गोयका     जी     से   भाषण     तैया     कवा     देने    की     ाथचना     की।   ी     गोयका     जी     ने    ोा     जी     को     पदी     जाक    भाषण     तैया     कने    का    आदेश     पदया।    ोा     जी     पदी     गए    औ    २४    घंिे    म    ही     एक    अंत     सा     गपभचत    भाषण     पखक     मुपत     का     पदया।    ोग     उसम         पवराों    से    बत     भापवत     ए    | अपधवेशन     म   भाग     ेने    के    पए     सेठ     घनाम     दास     पबा    भी    आये   थे।    उनका     यप     ोदा     जी     से    ूणच     मतै     नहीं   था     तथाप     वह    भाषण     उ    संद    आया।    दूसे    पदन    अनी     पतया          कते    ए     उों ने    ोा     जी     से    कहा    --   भेजी     तुमोगों    के    ा     पवरा     ह    कै से    ह    कहांतक     ठीक     ह    इसकी    आोरना     हम    नहीं    कनी    |       इनका     रा     तुमोगों    ाा     समाज     म    हो     हा     है    जनता     इसे    दू     तक     मानती    भी     है।    यपद     तुमोगों    के    ास    अने    पवराों   औ     पसांतों    का     एक        होता     तो     तुमोगों    को    औ    भी     सफता     पमती    |  तुमोग    अने    पवराों    का     एक          पनकाो    |  ोा     जी     ने    कहा   --  बात     तो     ठीक     है         मेा     इस     स     म    कोई    अनुभव     नहीं    है   |  पबा     जी     ने   आह     कते    ए     कहा     यास     को    |  उस     समय     बात     यहीं    समा     हो     गयी    |  घनाम     दास     जी     ने    ामशच     के         म    एक     बात     कह     दी    थी    |       यही     बात     काण     मापसक     के    ज     का     काण     बन     गयी    | अपधवेशन     समा     होने    के    बाद     सभी     ोग    अने   अने    थान     रे    गए    |  ोा     जी     बई     की    ओ     रे   |  उन     पदनों    पदी     से    बई     जाने    के    पए     ेवा़ी     होक    अहमदाबाद     जाना     ़ता    था    औ     वहां    से    गाडी     बद     क     बई    |  ोा     जी     पदी     से    ेवा़ी     गए    |  ेवा़ी     से    पभवानी     का    आधे    घंिे    का     ाा    था    |  ोा     जी     रू     से    उनपदनों    पभवानी    आये    सेठ     जयदया     गोयकाजी     से    पमने    पभवानी     गए     एक     पदन     वहां    हे   |  सेठ     जी     को     बाकु ़ा     जाना    था    औ     ोा     जी     को     बई    |  दोनों    पभवानी     से    वा़ी     तक     साथ    आये   |  ाे    म    उों ने    घंााी     ाा     पदए     गए     सुझाव          रराच     की     सेठ     जी     को     यह     पवरा    अा     गा     सेठ     जी     के    साथ     उनके   अनुगत     ीाम     मुोपदया    भी    थे   |  उों ने   भी     सहमती     जताई    |  उों ने    ोा     जी     से    वरन     े    पया     पक     वे    ेक     पदन     दो     घंिा     समय     सादन     के    पए     दगे   |  ोा     जी     ने   अनी    अनुभवहीनता     के    बाे    म    बात     की          मुोपदयाजी     न    उ    रु     का     पदया    | अब     नाम     का         आया    |  ोा     जी     के    मु ंह     से    पनक     गया     काण    |  सेठ     जी     तथा     मुोपदया     जी     को     यह     नाम     संद    आया    |  यह     बात     रै     शु    ९    संवत    १९८३   ी     ाम     नवमी     के    पदन     की     है   |  इसी      के    साथ     तय     हो     गया     पक    अय     तृतीया   (  वैशाख     शु     तृतीया   )  से    काण     का    आ     क     पदया     जाय    |  एक     पदन     खेमाज    ी     कृ      दास     ेस     के    मापक     सेठ    ी     कृ      दास     जी     ोा     जी     से    पमने   आये   |  बातरीत     के    दौान     काण     की     रराच     ई    | ी     कृ      दास     जी     ने    कहा    --   भाई     जी         अव     पनकना     रापहए    |  ोा     जी     ने    उनके    सामने   भी    अनुभव     की     कमी     की     बात     की    | ी     कृ      दस     जी     ने    सहयोग     देन    की     बात     की    |  ोा     जी    आनाकानी     क     हे   थे   |  तब    ी     कृ दास     जी     ने    ोा     जी     से    कहा    --   आको    भगवान्    न   आसाम     म   भूकं      से    बराया    | भगवान्   आसे    कोई     ब़ा     काम     कवाना     राहते    ह   |  ोा     जी     इस     तकच     के   आगे    मौन     हो     गए   | अब     काण     का     ंजीकण     हो     गया    औ     सामी     एक     क     ेस     म    छने    को     दे    पदया     गया।   ावण     कृ     ११    संवत    १९८३    पवमी     को     काण     का     हा    अंक     पनका    |  काशक    था     संग    भवन     नेमानी     बाडी     बई    |  इस     का     काण     का     थम    अंक     पनका    अंक     सबको     बत     संद    आया    |  ा     म    इसकी    १६००    ाहक    थे    सब     बनाए     ए    थे    बने    ए     नहीं   |  काण     के    पए     गांधी     जी     से    ोा     जी     ने   आशीवाचद     मागा    |  गाधी     जी     ने    पवान    औ     ुक     समीा     न     छाने    की     साह     दी    |  ोा     जी     इसे    पशोधायच     पकया    औ    आजीवन     इसका     पनवाचह     पकया    | आज    भी     काण     म    पवान     नहीं    छाा     जाता    |  काण     के   १२    साधाण    अंक     तथा     दूसे    वषच     का     हा    अंक    भगवामांक     पवशेषांक     बई     से    पनका    |  बाद     म    इसका     काशन   ( १९२७    ई    ०  )  से    गीताेस     गोखु     से    होने    गा    |  इस     पनपम     ोा     जी     बई     से    गोखु    आ     गए    | (  सभच     काण     थ     पनमाचता    औ     ाही       े   ०   भगवती     साद     पसंह     काशक     ाधामाधव     संथान     गोखु     संण     संवत    २०२७    पव०  )   भाईजी     ने    काण     को     एक    आदशच    औ     परक     पका     का          देने    के    पए     तब     देश    भ     के    महााओं   धापमचक     पवषयों    म    दख     खने    वाे    ेखकों   औ     संतों   आपद     को          पखक     इसके    पए     पवपवध     पवषयों         ेख    आमंपत     पकए।    इसके    साथ     ही     उों ने   ेतम     काकाों    से    देवी  -  देवताओं    के   आकषचक     पर     बनवाए    औ     उनको     काण     म    कापशत     पकया।   भाई     जी     इस     कायच     म    इतने    तीन     हो     गए     पक     वे   अना     ूा     समय     इसके    पए     देने    गे।    काण     की     सामी     के    संादन     से    ेक     उसके    ंग  -       को    अंपतम          देने    का     कायच    भी    भाईजी     ही     देखते   थे।    इसके    पए     वे    पतपदन    अठाह     घंिे    देते   थे।    काण     को     उों ने    मा     पहंदू    धमच     की     ही     पका     के         म    हरान     देने    की     बजाय     उसमे    सभी    धम     के   आराय  ,  जैन     मुपनयों ,  ामानुज  ,  पनंबाकच  ,  मा    आपद     संदायों    के    पवानों    के    ेखों    का     काशन     पकया।    गीताेस    भाईजी     ने   अने    जीवन     का     म    गीता     ेस     गोखु     म    ौने    छ  :  सौ     से    ादा     ुक    कापशत     की।    इसके    साथ     ही     उों ने    इस     बात     का    भी    ान     खा     पक     ाठकों    को     ये    ुक    ागत     मू          ही     उ     हों।    काण     को    औ    भी     ोरक     व     ानवधचक     बनाने    के    पए     समय  -  समय          इसके   अग  - अग     पवषयों         पवशेषांक     कापशत     पकए     गए।   भाई     जी     ने   अने    जीवन     का     म    रा  -  सा     से    दू     हक     ऐसे    ऐसे    काय     को    अंजाम     पदया     पजसकी     बस     कना     ही     की     जा     सकती     है।   १९३६    म    गोखु     म   भयंक     बा    आगई    थी।    बा     ीप़त    े     के    पनीण     के    पए   
Similar documents
We Need Your Support
Thank you for visiting our website and your interest in our free products and services. We are nonprofit website to share and download documents. To the running of this website, we need your help to support us.

Thanks to everyone for your continued support.

No, Thanks